बेटे के सामने हुई पूरी नंगी | Maa beta sex story Part-1

Maa beta sex story:- हेलो मेरे प्यारे दोस्तों, कैसे हो आप सब? उम्मीद करता हूँ की आप सब अच्छे होंगे। दोस्तों मेरा नाम आशीष और मेरी उम्र 21 साल है। मै ठीक ठाक हाइट का, गेहुएँ रंग का और अच्छी ख़ासी बॉडी वाला लड़का हूँ. मेरे लंड की लंबाई 7 इंच और मोटाई 3 इंच है. तो दोस्तों ये कहानी माँ बेटे की चुदाई की कहानी है. तो अब आप सब लोगो का ज्यादा टाइम वेस्ट नहीं करूंगा। चलिये स्टोरी स्टार्ट करते है।

Maa beta sex story hindi

Maa beta sex story

मेरी माँ का नाम शिल्पा है और वह एक अच्छी भारतीय महिला है। वह हमेशा साड़ी पहनती है। और किसी दूसरे मर्द के बारे मे सोचना भी उनके लिए एक गुनाह है। तो दोस्तों मै अपनी माँ के बारे में आपको बता देता हूँ. मेरी माँ शिल्पा की उम्र 45 साल है पर आज भी वह 35 साल से ज्यादा की नहीं लगती है. उनका फ़िगर अगर मै बताऊँ तो 38-32-40 का होगा। हल्की सी चर्बी चढ़ी हुई है पर बहुत ही खूबसूरत है. अब मै आता हूँ अपनी कहानी पर. यह बात लॉक डाउन से 2 महीने पहले की है जब सब कुछ नार्मल था. मेरे पापा एक क्लॉथ मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में मैनेजर है और अपने काम में काफी सीरियस रहते है जिसके कारण माँ का ध्यान भी नहीं रखते. वह पूरे दिन ऑफिस में होते है और रोज़ रात को 11 बजे आते है. मैं सेक्स स्टोरीज का रेगुलर रीडर हूँ और इन्सेस्ट मेरी फेवरेट केटेगरी है. जब से मैंने हिलाना शुरू किया है तो बस मैंने अपनी माँ के बारे में ही सोच कर हिलाया है. कई बार तो नहाने जाता था तो उनके अंडर गार्मेंट्स में ही झाड़ देता था.

यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा और मै सारा दिन इन्सेस्ट स्टोरीज पढता और इन्सेस्ट वीडियोस देखता था. धीरे धीरे मै वासना में इतना डूबने लगा की मै अपनी माँ को दिन भर निहारता रहता और बस उनके जिस्म का स्वाद लेने की साज़िशें रचता था। पर हर बार मै अपनी साज़िश में नाकाम रहता था. एक बार की बात है जब मैं नहाने जा रहा था तब मैंने माँ से कहा की पानी गरम कर दें, मेरे नहाने के लिए. वह गरम कर के लायी और मैं अंडरवियर में ही खड़ा था और मेरा लंड उफान पे था. वह पानी लेकर आयी और मै बाल्टी के पास ही खड़ा था. वह जैसे ही वह आगे झुकी बाल्टी में पानी डालने के लिए उनकी 40 साइज की गांड मेरे लंड से टकरा गयी. माँ अचानक से उठी और मेरी तरफ देखि और मुझे गुस्से से देखने लगी. पर उन्होंने उसके आगे कुछ भी नहीं किया. उनके जाने के बाद मैंने अंदर ही मुठ मारी और खुद को सेटीसफाय किया. फिर उस दिन के बाद मैं मौके की तलाश में लगा रहा पर कोई भी मौका हाथ न आया. Maa beta sex story

Maa beta sex story new

फिर एक दिन मैं कॉलेज से आकर खाना खा के अपने रूम में सोने चला गया और माँ घर का काम कर रही थी. मैं अपने रूम में इन्सेस्ट स्टोरीज पढ़ रहा था और माँ को याद करके मेरा लंड खड़ा हो गया था। मानो बस पैंट फाड़ कर बहार आना चाहता हो. मैंने एक प्लान बनाया की कुछ भी हो जाये आज तो मैं अपना लंड माँ को दिखा कर ही रहूँगा. मैंने अपने रूम का दरवाजा खुला छोड़ दिया और पैंट उतार कर बेड पर लेट गया और पोर्न चालू कर के मुठ मरने लगा. मैंने जानबूझकर एअरफोन्स नहीं लगाया और फ़ोन के स्पीकर की आवाज़ में ही पोर्न देख कर हिलाने लगा. माँ को अजीब आवाज़ें सुनाई दी और वह चेक करने के लिए मेरे रूम के पास आयी. जैसे ही मैंने गेट को खुलते हुए देखा मैंने अपनी आँखें बंद कर ली और अपना 6 इंच लम्बा लंड हिलाने लगा. माँ मुझे देख कर दंग रह गयी और ज़ोर से चिल्लाई..

माँ – “आसीषशशशश!!!!” यह क्या कर रहे हो तुम? शर्म नहीं आती तुम्हे?

मै (चौंकते हुए) – माँ आप कब आयी? और आपने डोर क्यों नहीं नॉक किया?

माँ (गुस्से में) बेशरम एक तो ऐसे सब काम करता है और मुझे ही पूछता है की नॉक क्यों नहीं किया? रुक तेरे पापा को फ़ोन करती हूँ और सब बता देती हूँ.

मै डर गया की कही मेरी साज़िश मेरे ऊपर ही भारी ना पड़ जाये. माँ रूम से बहार गयी और मै बिना पैंट पहने ही उनके पीछे दौड़ा उन्हें रोकने के लिए. मैंने माँ का हाथ पकड़ा और माँ को कहा.. Maa beta sex story

मै – “माँ प्लीज पापा को फ़ोन मत करो प्लीज माँ.

Latest maa beta sex story

माँ – तेरी करतूत पापा को बतानी ही पड़ेगी. बहुत दिन से देख रही हूँ जब भी बाथरूम में जाती हूँ तो तू मेरे कपड़ो को ख़राब कर देता है तो कभी झुक कर पोछा मारती हूँ तो मुझे देखता है और कभी गरम पानी के बहाने मेरे पीछे खड़े हो जाता है. रुक आज तेरी सारी करतूत तेरे पापा को बताउंगी.

मै (रोते हुए) नहीं माँ प्लीज पापा को मत बताओ! मै अब से नहीं करूँगा पक्का. प्लीज मत बताओ पापा को.

माँ (कुछ सोचने के बाद) ठीक है नहीं करुँगी तेरी कंप्लेंट. तू जा पहले पैंट पहन ले.

मैंने देखा की मैंने पैंट नहीं पहनी थी. मैंने अपने लंड को देखा और फिर माँ की और देख कर हसने लगा. माँ भी मेरी हंसी में शामिल हुई और मुझे कहा

माँ – तू बहुत बड़ा हो गया है. जा कपडे पहन ले और फिर बाहर आ मुझे बात करनी है तुझसे.

मै पैंट पहन कर बाहर आया और माँ के पास सोफे पर आकर बैठ गया.

माँ – आशीष एक बात पुछु?

मै – हाँ माँ पूछो.

माँ – यह सब कब से शुरू है?

मै (अनजान बनते हुए) क्या माँ? क्या कबसे शुरू है?

माँ – ज़्यादा भोले मत बनो मै बहुत दिन से देख रही हूँ तुम बार बार मुझे घूरते रहते हो. और कितनी बार तुमने मेरी ब्रा और पैंटी ख़राब कर दी है.

मै – माँ मुझे कुछ कहना है पर आप गुस्सा तो नहीं करोगी न?

माँ – बोलो.

मै – माँ आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो! आई लव यू माँ.

माँ – बेटा यह गलत है मै तुम्हारी माँ हूँ और तुम मेरे बेटे! यह पाप है! तुम कॉलेज में कोई गर्लफ्रेंड पटा लो! अपनी माँ में आखिर क्यों इंटरेस्टेड हो बेटा?

मै – माँ आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो सच्ची. मुझे कॉलेज की कोई लड़की नहीं पसंद मुझे बस आप पसंद हो माँ.

माँ – बेटा आखिर क्या है ऐसा मुझमे? जो तुम मेरे पीछे पड़े हो?

मै (माँ के दोनों हाथो को पकड़ते हुए) – माँ आपके बारे में क्या कहु. आपकी आँखें मानो उस जाम की तरह है जिसमे मदहोश होने को दिल चाहता है। आपके बाल मानो वह माया जाल हो जिसमे इस अभिमन्यु को उलझना है. Maa beta sex story

मै – आप जब चलती हो तो मानो खुदा ने धरती पर ही किसी अप्सरा को भेज दिया हो और माँ आपके होंठ क्या कहु उनके बारे में? आपके होंठ इतने रसीले है की बस उनपर अपने होठों की प्यास रखने को जी चाहता है.

माँ बेटा सेक्स स्टोरी हिन्दी

इतना कहते ही मै आगे बढ़ा और माँ को किस करने लगा. माँ की आँखें बंद थी और मै उनके होठों को चुम रहा था तभी वह पीछे हट गयी और कहने लगी

माँ – बेटा यह गलत है.

मै – माँ क्या गलत है इसमें? आप एक औरत हो और मै एक मर्द. आप भी तो हमेशा अकेले रहते हो. पापा तो बस पूरा दिन काम करते रहते है. उनको काम के अलावा कुछ नहीं दिखाई देता.

माँ – बेटा उनके बारे में ऐसा मत बोल वह तेरे पापा है और उससे पहले मेरे पति.

मै – क्या उन्होंने आपको कभी पत्नी जैसे रखा? इतनी सुन्दर पत्नी होकर भी उनको बस काम काम और काम ही दिखाई देता है.

मै (हाथ पकड़ते हुए) – माँ इसमें कुछ गलत नहीं है. मैं आपको बहुत खुश रखूँगा माँ. मै आपको बहुत प्यार करता हूँ.

इतना कहते ही मैं फिर उनकी ओर बढ़ा और उन्हें किस करने के लिए आगे झुका और इस बार उन्होंने भी मेरा साथ दिया. हम एक दूसरे को किस करने लगे और एक दूसरे के स्वाद लेने लगे. तभी अचानक डोर बेल बजी और डिलीवरी बॉय बाहर पार्सल लेकर खड़ा था.

माँ ने फिर मुझसे दूर होते हुए कहा बेटा यह गलत है.

माँ पार्सल लेने चली गयी और मैं उदास होकर बैठ गया. डिलीवरी बॉय के जाने के बाद माँ मेरे पास आयी और मुझे कहने लगी

माँ – बेटा तुझे मै पसंद हूँ न?

मै – हाँ माँ बहुत! आई रियली लव यू माँ.

माँ – बेटा जो तू चाहता है वह गलत है. उसके लिए मेरा मन नहीं मान रहा. तुझे अगर मै पसंद हु तो तू मुझे छू सकता है और यह जो तू आज कर रहा था वह कर सकता है पर इससे ज़्यादा कुछ एक्सपेक्ट मत करना बेटा.

मै – पक्का माँ? मैं आपको छू सकता हूँ? और हिला सकता हूँ?

माँ बेटा की चुदाई की कहानी

माँ – हां पर यह बात गलती से भी घर से बाहर नहीं निकलनी चाहिए बेटा वर्ना बहुत बदनामी होगी.

मै – नहीं माँ आप टेंशन मत लो.

और फिर मैंने उन्हें ज़ोर से हग किया और उनके बैक पे हाथ फेरने लगा. माँ ने कुछ नहीं कहा और मै अपना हाथ उनकी गांड पर लेकर गया और उसे दबाने लगा. मैंने उनकी गांड पे हाथ फेरने के बाद उनके बूब्स को दबाया और मेरा लंड खड़ा हो गया था. माँ मेरे पैंट में बने टेंट से समझ गयी थी की अब लंड खड़ा हो गया है. Maa beta sex story

उन्होंने कहा “जाओ इसे शांत कर लो.”

मैंने कहा “माँ आपके सामने ही करना है आप बैठो न सामने.

मैं अपना लंड पैंट से निकालकर हिलाने लगा. माँ मुझे लंड के साथ खेलता देख मुस्कुराने लगी और मै एक हाथ से उनके बूब्स को दबा रहा था. उन्होंने अपना ब्लाउज खोल दिया और ब्लैक कलर की ब्रा में उनके 38 के बूब्स मानो कहर ढा रहे थे. मैंने ब्रा का स्ट्रेप खोल दिया और उनके मुलायम बूब्स के स्पर्श ने तो मानो मेरे सांप को और उत्तेजित कर दिया हो. मै उनकी चूचियां दबाने लगा और एक हाथ से अपना लंड हिलाने लगा. थोड़ी देर में मैं झड़ गया और सारा माल फ्लोर पे गिर गया. माँ उठ कर खड़ी हो गयी और अपने कपडे पहनने लगी और फिर माँ ने कहा बेटा यह साफ़ कर दो. मैं भी खुश था और माँ भी चली गयी और घर का काम करने लगी. मैं अपने रूम में जाकर सो गया. शाम को जब मै उठा तो देखा माँ किचन में बर्तन धो रही थी. मैं पीछे से गया और उन्हें पकड़ लिया.

माँ चौंकते हुए मेरी और देख कर बोली “उठ गए बेटा?”

मैं उनके बूब्स पर हाथ फेरते हुए बोला- हां माँ उठ गया मै!

और इतना कहने के बाद मै उनकी गर्दन को चूमने लगा. माँ भी काफी उत्तेजित हो रही थी. फिर मुझे अपनी कोहनी से मारते हुए उन्होंने कहा “आशीष मुझे परेशान मत कर! काम करने दे! आज वैसे भी घर पर मेहमान आने वाले है! मेहमान का नाम सुनते ही मेरा मूड ऑफ हो गया और मै नीचे चला गया पार्क में घूमने. पार्क से लौटने पर मैंने देखा मेहमान आ चुके है और पापा भी आज जल्दी आ गए है. फिर सबने खाना खाया और हम सोने चले गए. दूसरे दिन मेरा कॉलेज में बिलकुल भी मन नहीं लग रहा था और बस जल्द से जल्द घर आना था. मैं लास्ट 2 लेक्चर्स बंक करके घर आ गया. घर आया तो माँ ने डोर खोला और मै उनके ऊपर टूट पड़ा और उन्हें ज़ोर से हग करने लगा और मेरे हाथ उनकी गांड के साथ खेल रहे थे.

माँ ने मुझे धक्का दिया और कहने लगी जा पहले फ्रेश होकर आ फिर जितना चाहिए उतना खेल लेना अपनी माँ के जिस्म के साथ.

माँ बेटे की चुदाई की सेक्स स्टोरी

यह सुनते ही मै बाथरूम की और दौड़ा और जल्दी से फ्रेश होकर आया. माँ किचन में थी और खाना बना रही थी. मैं सिर्फ अंडरवियर में था और आकर माँ को पीछे से हग किया और उनके पेट पर अपना हाथ फेरने लगा और उनके गले को चूमने लगा. माँ भी कामुकता में खो गयी थी और मैं अपना लंड निकालकर उनकी साड़ी के ऊपर से ही उन्हें स्ट्रोक्स दे रहा था. माँ मेरी और मुड़ी और मैंने उनके लिप्स को किस किया और अपना हाथ साड़ी के अंदर ही पेटीकोट में डाला. माँ ने पैंटी नहीं पहनी थी और उनकी चूत काफी गरम थी. उनके चूत पे काफी घने बाल थे. मैं उनके चूत को रगड़ने लगा और अपनी एक ऊँगली अंदर डाल दी. माँ की सांसें तेज़ हो गयी और पूरे कमरे में मानो एक अलग सी गर्मी छा गयी हो! हमारी कामुकता की गर्मी. थोड़ी देर में माँ झड़ गयी.. Maa beta sex story

उन्होंने कहा – मै जा रही हूँ साड़ी चेंज करने और तू भी अपना लंड हिला ले.

Maa beta ki chudai ki kahani

माँ के मुँह से लंड शब्द सुनते ही मैं और उत्तेजित हो गया. फिर मैं भी माँ के पीछे बाथरूम में चला गया और टॉयलेट सीट पर बैठ कर उन्हें निहारने लगा और अपने औजार को हाथ में लेकर हिलाने लगा. माँ मेरे सामने अर्धनग्न अवस्था में थी सिर्फ पेटीकोट और ब्रा में. यह दृश्य मेरी आँखों के सामने देख कर मैं काफी उत्तेजित हो गया था. मैं अपना लंड ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा और मेरा माल सीधा जाकर उनके पेट पर गिरा और माँ मेरी ओर मुस्कुराते हुए कहने लगी काफी बड़े हो गए बेटा. फिर हमने साथ में ही शावर लिया और बहार आ गए. मैं काफी खुश था और माँ के चेहरे से भी ख़ुशी झलक रही थी. हमने चेंज किया। माँ फिर खाना बनाने लगी और मै किचन में उन्हें निहारता रहा. फिर हमने खाना खाया और मै माँ के रूम में ही आ गया सोने के लिए. हम एक दूसरे को गले लगा कर सोये थे. यह सिलसिला ऐसे ही कुछ दिनों चलता रहा. मै रोज़ कॉलेज से आता माँ के जिस्म के साथ खेलता और उन्हें देख कर अपना लंड हिलाता था. धीरे धीरे माँ को भी इस सब में मज़ा आने लगा और उन्हें भी मुझसे प्यार होने लगा. अब मै रोज़ घर पे नंगा ही घूमता था और माँ भी कुछ नहीं बोलती थी और इसी तरह 1 महीना निकल गया. और फिर आयी वह रात जिसने सब बदल दिया.

इसके आगे की कहानी मैं अगले पार्ट में बताऊंगा की कैसे मैंने माँ को अपने साथ सेक्स करने के लिए मनाया और कैसे हमारा माँ-बेटे से पति-पत्नी बनने तक सफर आगे बढ़ा.

35 thoughts on “बेटे के सामने हुई पूरी नंगी | Maa beta sex story Part-1”

    1. राहुल

      डाल दे भाई अपनी माँ की चूत पे मोटा लंम्बा लंड

  1. Jo koi bhi ladies kisi bhi age ki sex krna chahti h contact kre sab gupat rkha jayega Mera lund 6″”inch long h

  2. Main Delhi se hu ek Playboy hu. Educated, decent and well mannered. So koi bhi unsatisfied housewives like aunty and bhabhi mujhe msg kr sakti hai.

  3. सीमा वाणी

    मैं पंजाब से हूँ मेरी उम्र 35 वर्ष है मेरी पोशाक सलवार कुर्ती है मुझे नंगा होकर सेक्स करने में बिलकुल मज़ा नही मिलती है इसलिए मैं सेक्स करने के समय सुन्दर और सेक्सी पेटीकोट(साया) पहनकर ही करती हूं।
    सीमा वाणी
    पटियाला पंजाब।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *